keep learning keep growing: बस दो लफ़्ज़ है, @_sivaarohi__

Followers

Monday, March 7, 2022

बस दो लफ़्ज़ है, @_sivaarohi__

                        _sivaarohi__

बस दो लफ़्ज़ है,

जिसे कहने में पूरी जिंदगी गुज़र रही है,

सिर्फ और सिर्फ दो लफ़्ज़,

दो लफ़्ज़ है, वही कहने है,

न साथ दिया तुमने,

न वक्त सही है, न हालात ।


यादों में बस मुलाकात है,

कुछ तेरे थे कुछ मेरे है,

वो सिर्फ तेरे मेरे एहसास है,

वो बेबस बेक़रार रात है,

आँखे में बस अब सिर्फ सपने है,

और बस दो लफ़्ज़ है,वही कहने है|


न साथ दिये तुम,न वक्त ने,

कास हम कह दिए होते,

वो लफ़्जों को न छिपाते,

तो आज हलात कुछ ओर होते,

जिसे कहने में पूरी जिंदगी गुज़र रही है,

सिर्फ और सिर्फ दो लफ़्ज़ है।

No comments:

Post a Comment